Home
FAQ

FAQ

 1 What should I do after Diploma ?

डिप्लोमा के बाद क्या करें ?

You can do B.Tech. degree in Engineering or do a job or start your own work / business.

आप इंजीनियरिंग में बी.टेक. डिग्री कर सकते हैं या नौकरी कर सकते हैं या अपना काम स्टार्ट कर सकते हैं.

2. Graduation is of how many years ?

ग्रेजुएशन कितने साल का होता है ?

In India, Bachelor degree, like BA, B.Com, BSc, BTech, BBA, MBBS, … etc. is called graduation.  Mostly it is of 3 years duration. Engineering is 4 years course. Medical is of 5 and half years course.

भारत में BA, B.Com, BSc, BTech, BBA, MBBS, … या अन्य बैचलर डिग्री को ग्रेजुएशन समझा जाता है. यह 3 साल का होता है. इंजीनियरिंग 4 साल का है. MBBS साढ़े पांच साल का कोर्स है.

3. What is Bachelor Degree ?

बैचलर डिग्री किसे कहते हैं ?

In India, after 10+2 or HSC or Intermediate, students do 3 years course like BA, BCom, BSc, BTech, BBA, … etc. These are called bachelor degree courses. Mostly their name starts with letter ‘B’. Some course names may not start with letter ‘B’ but have ‘B’ in the degree names in mid or at end, like   MBBS, LLB etc. Some courses may be more than 3 years duration.

भारत में 12वीं के बाद 3 साल का कोर्स होता है, जैसे कि BA, BCom, BSc, BTech, BBA, … आदि. इन्हें बैचलर डिग्री कहते हैं. अधिकतर डिग्री नाम ‘B’ अक्षर से शुरू होते हैं. कभी कभी ‘B’ बीच में या आखिरी में भी हो सकता है जैसे कि MBBS, LLB आदि. कुछ कोर्स 3 साल से जादा के भी हो सकते हैं.

 4. Does doing BBA require laptop ?

क्या BBA कोर्स करने में लैपटॉप लगता है ?

No, not compulsory. If you have it, good, you can use it for searching and reading study material on net and preparing assignments and reports.
जरुरी नहीं है, पर अगर आप के पास है तो आप इसका उपयोग विषय को सर्च करने व पढ़ने के लिए कर सकते हैं. असाइनमेंट व रिपोर्ट बनाने के लिए भी हेल्पफुल होगा.
 5. What is CA ? What doses CA do ? Is coaching needed in IPCC or CA course ?

CA क्या है ? CA क्या काम करता है ? क्या IPCC या CA कोर्स के लिए कोचिंग जरुरी है ?

CA means Chartered Accountant. CA does accounts work and taxation work for his client companies or individuals. No, coaching is not compulsory of doing IPCC or CA. One can do self study and complete the course.

CA का मतलब चार्टर्ड अकाउंटेंट होता है. CA एकाउंट्स और टैक्सेशन का काम करता है. वह अपने क्लाइंट के लिए काम करता है जो कि कंपनी हो सकती है या व्यक्ति हो सकता है.  IPCC या CA करने के लिए कोचिंग जरुरी नहीं है. स्वयं पढ़ाई कर के भी CA किया जा सकता है.

 6. D.Pharma – Diploma in Pharmacy

डी.फार्मा – फार्मेसी में.  डिप्लोमा

D.Pharma – Diploma in Pharmacy is two years full time course. Distance Education is not allowed in Pharmacy. Different colleges have different fees. It ranges between 40,000 per year to 1 lakh per year. One should be HSC pass with PCM or PCB subjects. Currently D.Pharma course is in demand. It has good job scope in Medical Companies and Medical stores. You can also start your own medical store.

डी.फार्मा – फार्मेसी में.  डिप्लोमा दो साल का फुल टाइम कोर्स है. इसमें डिस्टेंस एजुकेशन allowed नहीं है. अलग अलग कॉलेज कि अलग अलग फीस है. फीस 40,000 प्रति वर्ष से लेकर 1 lakh प्रति वर्ष हो सकती है. आजकल डी.फार्मा डिमांड कोर्स में है. कोर्स करने के बाद मेडिकल कंपनी या मेडिकल स्टोर में नौकरी मिल सकती है. अपना मेडिकल स्टोर भी चला सकते हैं.

 7. How to do B.Tech engineering degree after diploma in Engineering ?

डिप्लोमा में बाद इंजीनियरिंग डिग्री कैसे करें ?

  • After completing Diploma apply for B.E. or B.Tech. admissions
  • Many states have centralized on-line forms
  • Select College or University as per your choice
  • Selection Criterion : your interest, future career plan, distance from home and travelling, hostel if required, finances and exam scores or Grades
  • In India B.tech or B.E is 3 years degree level program after Diploma

 

  • डिप्लोमा के बाद B.E. या B.Tech. के admission फॉर्म भरें 
  • कई राज्यों में ऑनलाइन फॉर्म हैं
  • अपनी पसंद का कॉलेज व युनिवर्सिटी चुनें
  • चुनाव का आधार अपनी रूचि, भविष्य का प्लान, घर से दूरी, ट्रेवलिंग, हॉस्टल, फीस … आदि रखें
  • भारत में डिप्लोमा के बाद इंजीनियरिंग डिग्री ३ साल का कोर्स है
 8.  How to become J.E. – Junior Engineer ?

J.E. – जूनियर इंजीनियर कैसे बनें ?

  • After 10th or SSC, you should do three years Diploma in Engineering. It can be from any polytechnic college, recognized by state technical board or UGC recognized University.
  • After completion of course apply for jobs with Govt Departments like Municipality, PWD, Railways, Electricity or other departments. You can also apply with Engineering Industries or Companies in Engineering.
  • दसवीं के बाद किसी पॉलिटेक्निक या UGC मान्य युनिवर्सिटी से 3 साल का इंजीनियरिंग डिप्लोमा करें.
  • डिप्लोमा पूरा होने के बाद सरकारी डिपार्टमेंट, जैसे कि म्युनिसिपेलिटी, PWD, रेलवे, बिजली विभाग आदि, में नौकरी के लिए आवेदन करें.
 9. How to do Diploma after 10th ?

दसवीं के बाद डिप्लोमा कैसे करें ?

After 10th, apply for 3 years Engineering Diploma Course from any polytechnic or university. Be alert, nowadays, most of the places, online form filling is compulsory.

दसवीं के बाद डिप्लोमा 3 साल का कोर्स है. किसी भी पॉलिटेक्निक या युनिवर्सिटी से डिप्लोमा का फॉर्म भर सकते हैं. आजकल अधिकतर जगह ऑनलाइन फॉर्म भरना जरुरी है. इसका ध्यान रखें.

 10. Can we do MBA after BA ?

क्या BA करने के बाद MBA कर सकते हैं ?

 YES, you can do MBA after BA or BCom or BCA or BBA or BTech or any other Bachelor degree. MBA in HR or Marketing is considered good combination after BA degree.

जी हाँ, आप BA करने के बाद MBA कर सकते हैं. MBA किसी भी बैचलर डिग्री जैसे कि BA, BCom, BCA, BBA, BTech या कोई एनी कोर्स, के बाद किया जा सकता है. BA के बाद HR या मार्केटिंग में MBA अच्छा रहेगा.

 11. What is difference in BTech and BE ?

बी टेक और बी ई में अंतर ?

Both are Engineering degree programs. Both have almost same syllabus and duration. As per University Grant Commission, BE and BTech are considered same for job and employment purpose.

दोनों ही इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स हैं. सिलेबस लगभग एक जैसा है. दोनों 4 साल के कोर्स हैं. UGC के अनुसार सरकारी व प्राइवेट नौकरी के लिए दोनों बराबर मान्य हैं.

HELP ?

  • We will help you.
  • We will understand and analyse strength, weakness, interest, dreams, skills.
  • We will help you in selecting right course, college and university.
  • We will guide you in admissions and course.
  • Contact us by email or sms or whatsapp or phone or contact form.

Visit contact page and call us or fill Inquiry form.


 

लेखक : काउंसलर अरुण मिश्र  


Share
Share