Library Science

लाइब्रेरी साइंस 

भारत की मिट्टी से ज्ञान और समृद्धि की खुशबू आती है। तक्षशिला से लेकर नालंदा विश्व विद्यालय ज्ञान के भंडार हेतु इतिहास मे दर्ज और विख्यात हैं। छोटे संस्थान से लेकर बड़े संस्थान तक लाइब्रेरी की बड़ी भूमिका होती है।

जिस प्रकार एक मनुष्य के गले मे माला तो महिला के गले मे हार शोभा देता है। वैसे ही कोई भी एजुकेशनल सोसायटी एंड ट्रस्ट बिना लाइब्रेरी के अधूरा ही कहा जायेगा। हर एक संस्थान मे एक लाइब्रेरी होती है। जहाँ पुरूष एवं महिला दोनो के लिए अच्छा अवसर रहता है। आजकल विज्ञान एवं तकनीकी से प्रत्येक क्षेत्र मे उत्तम प्रयास किया जा रहा है।

कोर्स (COURSE) 

इसलिये एक लाइब्रेरियन को Library science का कोर्स करना आवश्यक रहता है।

  • डिप्लोमा इन लाइब्रेरी साइंस – 12वीं के बाद 1 साल का कोर्स
  • B. Lib (बैचलर इन लाइब्रेरी साइंस) – किसी भी ग्रेजुएशन के बाद 1 साल का कोर्स
  • M. Lib (मास्टर इन लाइब्रेरी साइंस) – B.Lib. के बाद 1 साल का कोर्स
  • Ph.D (डॉक्टरेट)  – M.Lib. के बाद 3 साल का कोर्स

स्कोप (SCOPE)

जब आप एक लाइब्रेरियन होते हैं तो आप ज्ञान के भंडार के मालिक होते हैं। यूं भी कह सकते हैं ज्ञान की परछाईं और छांव पर हर पल व्यतीत कर रहे होते हैं।

कैरियर के हिसाब से बहुत ही सम्मानित और शारीरिक व मानसिक लाभ प्रदान करता हुआ पद होता है। आप खाली समय का ज्ञानार्जन के रूप मे सदुपयोग कर सकते हैं। साथ ही अपने आस पास के लोगों को उस ज्ञान से परिचित करा कर एक अच्छे नागरिक होने दायित्व निभा सकते हैं।

बतौर लाइब्रेरियन रहते हुए। छात्र छात्राओं और ताल्लुक रखने वाले स्टाफ को अच्छे किताबें पढने को प्रेरित कर सकते हैं। इससे जो भी सामाजिक आचार विचार का संचार होगा। उससे आपकी आत्मा को संतुष्टि मिलेगी ही साथ ही अपनी उपयोगिता भी साबित कर सकतें हैं।

इस क्षेत्र मे किसी भी लाइब्रेरियन को सरकारी संस्था मे शुरूआत मे कम से कम 20,000₹/ महीने की सैलरी और बाद मे 30,000₹/ महीने तक व अधिक भी हो सकती है। प्राइवेट सेक्टर मे भी अपार संभावनाये हैं। अपनी निजी लाइब्रेरी भी खोल सकते हैं।

कॉलेज व यूनिवर्सिटी 

कुछ संस्थान इस प्रकार हैं, जहां आप जानकारी ले सकते हैं__

  • स्वामी विवेकानंद यूनिवर्सिटी, सागर, MP
  • RKDF यूनिवर्सिटी, भोपाल, MP
  • Sunrise University, अलवर, राजस्थान
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • जामिया मिल्लिया इस्लामिया, नई दिल्ली
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी, उत्तर प्रदेश
  • माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, मध्य प्रदेश
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, उत्तर प्रदेश
  • जीवाजी यूनिवर्सिटी, मध्य प्रदेश

असल मे आपका कृतित्व आपके व्यक्तित्व का निर्माण करता है। आप एक लाइब्रेरियन के तौर पर खूब सम्मान प्राप्त कर सकते हैं। मुख्यतः आप एक शिक्षक की ही भूमिका निभाते हैं। सबकुछ आपके ऊपर भी निर्भर करता है कि लोग आपको किस नजर से देखते हैं। जीवन मे कोई भी काम छोटा नही होता। सही जानकारी से सही राह मिलती है।


HELP ?

YES,  We can help you in counseling and admissions. Contact us.

Our counselors will give FREE counseling.


लेखक : काउंसलर सौरभ द्विवेदी