Home
Go Slow

Go Slow

यह कहानी निजी है ।

यह पहली बार नहीं है । इससे पहले भी कई बार कठिन दिन आए हैं । 1998 व 2003 में मैंने अति कठिन समय देखा ।

हर बार दो ही बातों ने मुझे कठिनाई से बाहर निकाला ।

1. आत्म-विश्वास 2. प्रभु-विश्वास

हर बार दो स्ट्रेटेजी अपनाई –

1. धीमे चलो – Go Slow
2. छोटे छोटे काम पर ध्यान दो

यह कहानी निजी है पर संदेश सभी के लिए है ।

अपने ऊपर व प्रभु पर हमेशा विश्वास रखें । कठिन समय में छोटे काम पर ध्यान दें और go slow नीति अपनाएं ।

अरुण

Share
Share